essay on holi

Essay on Holi (होली पर निबंध)

Essay on Holi (होली पर निबंध)…

Outline of the Essay
  • Holi – The Festival of Colors
  • When is Holi celebrated?
  • What’s the story behind Holi?
  • Conclusion of the Essay.

Holi – The Festival of Colors

Holi is the festival of Colors. It is majorly the festival of Hindus, but now everyone indulges in this beautiful culture of sharing love through smearing colors on each other’s face. Holi symbolizes “Coloring one another in love”.
होली रंगों का त्योहार है। यह प्रमुख रूप से हिंदुओं का त्योहार है, लेकिन अब हर कोई एक-दूसरे के चेहरे पर रंग लगाकर प्यार बांटने की इस खूबसूरत संस्कृति का आनंद लेता है। होली “प्यार में एक दूसरे को रंगने” का प्रतीक है।

Holi is celebrated widely in India, by all cultures and states. Anyway, Holi is a fun festival, isn’t it? Holi brings great dishes, new clothes and so many other great things. Little kids love to play with water colours, the elders visit each others’ houses, share good food and moments. People of all age groups enjoy this festival, Holi.
होली भारत में सभी संस्कृतियों और राज्यों में व्यापक रूप से मनाई जाती है। वैसे भी, होली एक मजेदार त्योहार है, है ना? होली अपने साथ शानदार पकवान, नए कपड़े और कई अन्य अच्छी चीजें लाती है। छोटे बच्चे रंगों से घुले पानी के साथ खेलना पसंद करते हैं, बुजुर्ग एक-दूसरे के घरों में जाते हैं, अच्छे पकवान और आनंद के क्षण साझा करते हैं। सभी आयु वर्ग के लोग इस त्योहार का आनंद लेते हैं ।

Essay on Holi continues….

The people, allergic to Colors, should stay away from chemical Colors. We should be aware of the hazards of using chemical colours, one should use herbal Colors. We can also prepare colors at home using various flowers and ways.
जिन लोगों को रंगों से एलर्जी होती है, उन्हें कैमिकल युक्त रंगों से दूर रहना चाहिए। रासायनिक रंगों के उपयोग करने से होने वाले खतरों के बारे में पता होना चाहिए, इसलिए उन्हें हर्बल रंगों का ही उपयोग करना चाहिए। हम तरह तरह के फूलों और तरीकों से भी घर पर ही रंग तैयार कर सकते हैं।

When is Holi celebrated?

The festival of Holi typically falls in the month of March. Well, Holi in 2019 was on the 21st of March. Similarly, the upcoming Holi in 2020 is likely to be on the 10th of March.
होली का त्योहार आम तौर पर मार्च के महीने में पड़ता है। खैर, 2019 की होली 21 मार्च को थी। इसी तरह, 2020 में आगामी होली 10 मार्च को होने की संभावना है।

What’s the story behind Holi?

The celebration of Holi is about the victory of good over evil. Holi delivers the message that it’s an evil that has to perish, no matter how hard is it to be good in this world, but it’s only good, virtue, and humanity that wins.
होली का त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत के बारे में है। होली यह संदेश देता है कि बुराई का अन्त होता ही है, कोई फर्क नहीं पड़ता कि इस दुनिया में अच्छा होना कितना मुश्किल है, लेकिन यह केवल अच्छाई, पुण्य और मानवता ही है जो हमेशा जीतता है।

The mythological story behind Holi is of God Prahlad. He was a dedicated devotee of Lord Vishnu. But his father, an atheist and rebel against God’s believe didn’t like the idea of worshiping God. He wanted everyone to worship him, rather. He expected the same from his son, Prahlad too. Prahlad continued worshiping Lord Vishnu and that did hurt his father.

Essay on Holi continues….

होली के पीछे की पौराणिक कहानी भगवान प्रह्लाद की है। वे भगवान विष्णु के समर्पित भक्त थे। लेकिन उनके पिता, नास्तिक और भगवान पर विश्वास करने के खिलाफ थे तथा भगवान की पूजा करने के विचार को पसंद नहीं करते थे।  बल्कि, वे चाहते थे कि हर कोई उनकी पूजा करे। उन्हें अपने बेटे प्रह्लाद से भी यही उम्मीद थी। प्रह्लाद भगवान विष्णु की पूजा करता रहा और इससे उसके पिता को अच्छा नहीं लगता था। 

So he asked his sister, Holika to sit in the fire with Prahlad in her lap. Holika was blessed that she would not be harmed by fire. They planned to kill Prahlad. When Holika tries to kill Prahlad, by sitting in the fire, it’s she who burns. Prahlad, the devotee of God is saved. The perishing of Holika is a symbol of perishing of evil. Hence, Holi endorses the idea of doing good. Because evil has to end, get destroyed.
इसलिए उन्होंने अपनी बहन होलिका को उसकी गोद में प्रह्लाद के साथ अग्नि में बैठने को कहा। होलिका को आशीर्वाद दिया गया था कि उसे आग से कोई नुकसान नहीं होगा। उन्होंने प्रह्लाद को मारने की योजना बनाई। जब होलिका आग में बैठकर प्रह्लाद को मारने की कोशिश करती है, तो वही जल जाती है। भगवान का भक्त प्रहलाद बच जाता है। होलिका का मर जाना बुराई के नाश का प्रतीक है। इसलिए, होली अच्छाई करने के विचार का समर्थन करती है। क्योंकि बुराई का अंत होना ही है।

Essay on Holi continues….

Conclusion of The Essay

Holi is the Festival of Colors that falls in the month of March and brings joy to everyone’s family. One should be careful about using Colors. Consent is an important thing, one should not use Colors violently as a tool to bully or abuse Someone.
होली रंगों का त्योहार है जो मार्च के महीने में आता है और सभी के परिवार में खुशियाँ लाता है। रंगों के इस्तेमाल करने में हमें सावधानी बरतनी चाहिए। सहमति एक महत्वपूर्ण बात है, रंग का प्रयोग किसी को हिंसक रूप से धमकाने या किसी को गाली देने के साधन के रुप में नहीं करना चाहिए।

The judicious way of playing Holi is always better. One should try to keep the message that Holi endorses.
होली खेलने का विवेकपूर्ण/ समझदार तरीका हमेशा बेहतर होता है। इसलिए हमें उस संदेश को याद रखना चाहिए जो होली हमें देता है।

I hope, you liked this Essay on Holi. Please share it with your friends and family.

SOCIAL MEDIA LINKS

TRENDING ARTICLES:

6 thoughts on “Essay on Holi (होली पर निबंध)”

  1. Pingback: Essay on Swachh Bharat Abhiyan (Clean India) - Study Master

  2. Pingback: Essay on Christmas in 500 Words (2019) - Study Master

  3. Sir, ek request hai ki aap Hume easy ki PDF file bhi uplbbdh kraye. Please. Baar Baar mobile mai Aankhen lagaye rakhna health ke liye theek nahi hai.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *