Hindi to English Translation Exercise 5

Hindi to English Translation Exercise 5…यह Translation Exercise नीचे दी गयी “Spoken English Guru Hindi to English Translation Book” से ली गयी है। यदि आप यह पुस्तक खरीदना चाहते हैं तो नीचे दिये गये पुस्तक के चित्र पर क्लिक करें –

Spoken English Guru Hindi to English Translation Book

 

अब सुमित थोड़ा बेहतर महसूस कर रहा था और करे भी क्यों न, इतनी कठिन परीक्षा के दो चरण सफलतापूर्वक पार किये थे।  हिमांशु ने सुमित की हर तरह से सहायता की और ये सुनिश्चित किया कि पढ़ाई के अलावा सुमित को कोई और काम न करना पड़े। सब्ज़ी लाना या कपड़े धोना और अन्य ऐसे छोटे – मोटे काम सब हिमांशु कर दिया करता जिससे सुमित का समय व्यर्थ न जाए। सुमित पूरी मेहनत और लगन से तैयारी कर रहा था।  यह इंटरव्यू उसके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण था ,उसने पूरे जीवन आईo ऐo एसo अधिकारी बनने का सपना देखा था। अचानक गाँव से खबर आयी कि बाढ़ के कारण सुमित के घर में भारी नुकसान हुआ है और पूरे शहर में भारी तबाही हुई है।  खबर मिलते ही सुमित ने पिताजी से बात की तो पता लगा कि स्थिति बहुत ही बदतर है और खाने रहने के लिए भी जगह नहीं है। सुमित के पिताजी ने उसे फिर भी हार  न मानने और अपनी तैयारी जारी रखने को कहा।  अपने जीवन के इतने महत्वपूर्ण मोड़ पर जिंदगी उसका कड़ा इम्तिहान ले रही थी। सुमित कुछ समय परेशान रहा लेकिन फिर उसने सोचा कि इस दल दल से निकलने का एक ही उपाय है। उसे यह परीक्षा किसी भी हालत में पार करनी होगी अन्यथा उसकी और उसके घर की स्थिति कभी नहीं सुधरेगी।  एक सप्ताह के अंदर, सिवान में बाढ़ का प्रकोप ख़त्म हुआ और सामान्य जीवन लौट आया।  कुछ ही दिन में इंटरव्यू था और अब एक और परेशानी आ खड़ी हुई।  सुमित के कम सोने के कारण, वह बीमार पड़ गया और डॉक्टर ने उसे आराम करने की सलाह दी। सुमित बिस्तर पर पड़ा – पड़ा बस यही सोचता रहता कि वह कब ठीक हो जाये और पढ़ना शुरू करे।  हिमांशु ने दवाई और हर प्रकार से सुमित का ख्याल रखा और एक तरह से एक भाई का फ़र्ज़ निभाया।  एग्ज़ाम से पाँच दिन पहले आखिर सुमित भला चंगा हो गया। सप्ताह – दस दिन न पढ़ने के कारण सुमित का आत्मविश्वास थोड़ा डगमगा सा गया था लेकिन उसने अपना ध्यान बनाये रखा।  इतने दिनों की मेहनत आखिर बेकार थोड़े ही जाती और यही सोचकर सुमित ने पूरे लगन से पढ़ाई  की। आखिर इंटरव्यू का दिन आ ही गया। थोड़ा सहमा और घबराया सा, सुमित इंटरव्यू देने पहुँचा।  शालीनता के साथ सुमित ने सभी सवालों के जवाब दिए और उसकी सुध बुध से सभी बहुत प्रभावित हुए।  इतने कठिन परीक्षा में यह कह पाना मुश्किल था कि सुमित को सफलता हाथ लगेगी या नहीं। सभी बहुत ही उत्सुकता के साथ सुमित के परिणाम का इंतज़ार कर रहे थे और उसकी सफलता की दुआएँ माँग रहे थे।

 

Help

सहायता – Assistance
महत्वपूर्ण – Crucial/Significant/Vital/Important
दल दल – Abyss
बदतर – Worse
अन्यथा – else
प्रकोप – Outbreak
डगमगा – Wayward/Haywire
शालीनता – Pacified/Calm/Cool headed
सुध बुध – Presence of mind
कठिन – Tough/difficult/stern
उत्सुकता – Enthusiasm/Excitement/Eagerness

Translation

Now Sumit was feeling slightly better and why he shouldn’t be, he had successfully passed two stages of such a difficult exam. Himanshu assisted Sumit in every possible way and made sure that Sumit had no work to do except studying. Getting vegetables and washing clothes, all these odd jobs were done by Himanshu so that Sumit’s time doesn’t get wasted. Sumit was preparing with his heart and soul. This interview was extremely important for him, he had dreamt of becoming an I.A.S officer all his life. All of a sudden, news came from the village that due to floods heavy damage has been suffered by Sumit’s house and there has been huge destruction in the entire city. As soon as he received the news, Sumit called his father, he came to know that the situation was worse and there was not even a place for food and shelter. Sumit’s father still told him not to lose hope and continue with his preparation. At such a crucial stage of his life, life was taking a stern test of him. Sumit remained worried for some time but then he thought that to come out of this abyss, there is only one way. He had to pass this exam anyhow, else his, as well as his household’s situation, would never improve. Within a week, the outbreak of floods ended and life came back to normalcy.

Hindi to English Translation Exercise 5 continues…

The interview was scheduled a few days from then and another problem came up. Sumit fell ill due to his lack of sleep and the doctor advised him to take rest. Sumit, while he lied down on the bed kept on thinking, when will he get well and start studying. Himanshu took care of Sumit along with his medicines and played the role of a brother in a way. Five days before the exam, finally, Sumit got well. Due to lack of studies for around a week to ten days, Sumit’s confidence started to dwindle but he kept himself focused. After all, the effort of so many days wouldn’t have gone in vain, and keeping this in mind he started studying with all dedication. Finally, the day of the interview arrived. A bit scared and fearful, he arrived to give the interview. With calmness, Sumit gave answers to all the questions and all were impressed by his presence of mind. In such a difficult exam, it was difficult to say that Sumit will be successful or not. Everyone was waiting with a lot of enthusiasm for Sumit’s results and were praying for his success.

For More Translation Exercises: Buy Spoken English Guru “Hindi to English Translation Book”
Spoken English Guru English Speaking Course Kit

90 Days इंग्लिश स्पीकिग कोर्स किट (Offline): CLICK HERE
90 Days इंग्लिश स्पीकिग कोर्स (Online): CLICK HERE
सभी Books की PDF eBooks का सैट:
CLICK HERE
6 months ऑनलाइन ब्लॉगिंग कोर्स: CLICK HERE
6 months ऑनलाइन कम्प्यूटर कोर्स:
CLICK HERE
YouTube: CLICK HERE

Facebook: CLICK HERE
Instagram: CLICK HERE
Android App: CLICK HERE

अगर आपको ये आर्टिकल (Hindi to English Translation Exercise 5) पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ WhatsApp, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। Thank you! – Aditya sir

1 thought on “Hindi to English Translation Exercise 5”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *