Hindi to English Translation Exercise 7

Hindi to English Translation Exercise 7…यह Translation Exercise नीचे दी गयी “Spoken English Guru Hindi to English Translation Book” से ली गयी है। यदि आप यह पुस्तक खरीदना चाहते हैं तो नीचे दिये गये पुस्तक के चित्र पर क्लिक करें –

Spoken English Guru Hindi to English Translation Book

सीमा और गीता दो बहने थीं। वे प्रयागराज में रहती थी और एक सामान्य परिवार से ताल्लुक रखती थीं। दोनों बहनें पढ़ने में बहुत ही होशियार थीं और बहुत बुद्धिमान थी।  सीमा को नृत्य का बहुत शौक था और गीता को पेंटिंग बनाने में महारत हासिल थी। इनके पिताजी सरकारी नौकरी करते थे और बड़े ही शांत स्वभाव के थे।  दोनों की माँ सरकारी स्कूल में शिक्षिका थीं और बच्चों को विज्ञान सिखाती थीं। एक दिन सीमा ने अपनी माँ से कहा कि उसे बड़े होकर विदेश में नौकरी करनी है, यह सुनकर उसकी माँ हैरान हो गयी। उसकी माँ ने उससे पूछा कि आखिर ऐसा ख्याल उसके मन में आया कहाँ से? उसने कहा कि उसने कल टीवी पर देखा कि विदेश में सब लोग बहुत खुश रहते हैं और वहाँ हर चीज़ की सुविधा है। इन दोनों की बात के बीच ही गीता वहाँ आ गयी और दोनों की बातें सुनने लगी।  गीता उम्र में सीमा से तीन साल बड़ी थी और उसे सभी चीज़ों की जानकारी भी रहती थी। सीमा की उस बात पर गीता समझ गयी कि वह ऐसा क्यों कह रही थी।  उसने माँ को बताया कि कल वो एक सिनेमा देख रहे थे जिसमे जर्मनी के बारे में दिखाया गया था और वहाँ के सुन्दर पहाड़ों और नदियों को देख कर सीमा प्रभावित हो गयी थी। माँ ने सीमा से कहा कि वह पूरी पूरी बात बताये जो उसके दिमाग में चल रही थी।  सीमा ने कहा कि उसने देखा कि वहाँ पर सब लोग बहुत मौज मस्ती कर रहे थे और उन्हें हर चीज़ की आज़ादी थी। उसकी माँ को लगा कि शायद सीमा लड़कियों के अधिकार को लेकर कुछ कहना चाह रही थी । गीता ने सीमा से उसके दोस्तों के बारे में पूछा, वे आपस में क्या बातें करते थे।  सीमा ने बताया कि उसकी कई दोस्त हमेशा घर पर ही रहती हैं और उन्हें बाहर जाने की आज़ादी भी नहीं थी।  जब स्कूल जाना होता है तभी वे घर से बाहर निकलती हैं नहीं तो इसके अलावा वे घर से शायद ही कभी बाहर जाती थी।  यह सब सुनकर सीमा की माँ काफी चिंतित हो उठी। उन्होंने सीमा से पूछा कि क्या उसे भी ऐसा ही महसूस होता है उसे किसी प्रकार की आज़ादी नहीं थी? सीमा ने कहा कि वह खुद को बहुत भाग्यशाली समझती है कि उसे किसी भी प्रकार का काम करने से या कहीं जाने से कोई रोक टोक नहीं थी लेकिन उसे बाकी दोस्तों और लड़कियों की चिंता होती थी जिन्हे पिंजरे में बंद करके रखा जाता था।

 

Help

सामान्य – Ordinary/Common
ताल्लुक – Belong/Concerning/Regarding
महारत – Adept/Mastery
विदेश – Abroad/Foreign
प्रभावित – Amazed/Influenced/Impressed
अधिकार – Rights
आज़ादी – Independence/Freedom
भाग्यशाली – Lucky/Fortunate
पिंजरे – Cage/Captivity

Translation

Seema and Geeta were two sisters. They lived in Prayagraj and belonged to an ordinary family. Both sisters were pretty good in academics and were very intelligent. Seema was very fond of dance and Geeta was adept in painting. Their father did a government job and was of very calm nature. The mother of both was a teacher in a government school and taught science to children. One day, Seema told her mother that when she grows up, she wanted to do a job abroad, hearing that her mother was shocked. Her mother asked her, where did such a thought come to her mind? She said that she saw on TV yesterday that everybody abroad was very happy and everything was available there. Amidst these two talking, Geeta came there and started listening to both of them. Geeta was three years older than Seema and was far more experienced. Geeta understood why Seema was talking like that. She told her mother that yesterday they were watching a cinema which showed about Germany and Seema was impressed by looking at the beautiful mountains and rivers there. Mother asked Seema to tell the whole thing which was going on in her mind. Seema said that she saw that everyone was having a lot of fun there and they had freedom of everything. Her mother thought that Seema was trying to say something about the rights of girls. Geeta asked Seema about her friends, what they talked to each other about. Seema said that many of her friends were always at home and they did not have the freedom to go outside. They only went out of the house when they had to go to school, apart from that they seldom went out of the house. Seema’s mother got very worried after hearing all this. She asked Seema if she feels the same way that she didn’t have any kind of freedom? Seema said that she considered herself very lucky that she was not restrained from doing any kind of work or going anywhere but she was worried about the rest of the friends and girls who were kept in a cage.

For More Translation Exercises: Buy Spoken English Guru “Hindi to English Translation Book”
Spoken English Guru English Speaking Course Kit

90 Days इंग्लिश स्पीकिग कोर्स किट (Offline): CLICK HERE
90 Days इंग्लिश स्पीकिग कोर्स (Online): CLICK HERE
सभी Books की PDF eBooks का सैट:
CLICK HERE
6 months ऑनलाइन ब्लॉगिंग कोर्स: CLICK HERE
6 months ऑनलाइन कम्प्यूटर कोर्स:
CLICK HERE
YouTube: CLICK HERE

Facebook: CLICK HERE
Instagram: CLICK HERE
Android App: CLICK HERE

अगर आपको ये आर्टिकल (Hindi to English Translation Exercise 7) पसन्द आया हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ WhatsApp, Facebook आदि पर शेयर जरूर करिएगा। Thank you! – Aditya sir

1 thought on “Hindi to English Translation Exercise 7”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *